Ask Free Unlimited Question
Join the 2 Crores+ Student community now!
Question :

वाइरस को कोशिका सिद्धान्त का अपवाद कहते हैं, क्यों

Updated On: 17-04-2022

This browser does not support the video element.

Video Solution: वाइरस को कोशिका सिद्धान्त का अपवाद कहते हैं, क्यों

Answer

Step by step video & image solution for " वाइरस को कोशिका सिद्धान्त का अपवाद कहते हैं, क्यों " by Biology experts to help you in doubts & scoring excellent marks in Class 11 exams.

Question Details till 22/05/2022

Question वाइरस को कोशिका सिद्धान्त का अपवाद कहते हैं, क्यों
Chapter Name कोशिका : जीवन की इकाई
Subject Biology (more Questions)
Class 11th
Type of Answer video & image
Question Language
In Video - Hindi
In Text - Hindi
Students Watched 9.1 K+
Students Liked 7.6 K+
Question Video Duration 3m19s

Transcript

तू हेलो दोस्तों यहां पर वापस क्वेश्चन है कि वायरस को कोशिका सिद्धांत का अपवाद क्यों कहते हैं तो देखिए यहां पर मैं बस डायग्राम है सबसे पहले हम समझेंगे डायग्राम से कौन और कुछ प्रकार के वायरस में डायग्राम में और उनका स्ट्रक्चर है जो अनुमानित किया गया है क्योंकि वायरस जो बहुत सूक्ष्म जीव होते हैं कोई इलेक्ट्रॉन माइक्रोस्कोप से देखा जा सकता है वायरस को दोस्तों जो है जियो और सैनिकों के बीच की कड़ी कहा जाता है सजीव निर्जीव के बीच की कड़ी कहा जाता है तो आइए वायरस के बारे में थोड़ा सा हम जानते हैं यह क्या होता है दोस्तों यह बहुत ही सोच में जो है संक्रामक जीव होता है यह किसी को भी पौधों को चाहे पशु पक्षियों को किसी को भी संक्रमित कर सकते हैं वायरस है और इसके होते हैं यह सूचना संक्रामक जी होते हैं संक्रामक जो है एजेंट होते हैं जीवन को एजेंट कहिए यह सोच में संक्रामक एजेंट होते हैं क्या करते हैं दोस्तों यह जो है यह सजीव और निर्जीव के बीच की कड़ी कह जाते हैं

सजीव व निर्जीव के बीच पड़ी कह जाते हैं दोस्तों फिर उसके बाद क्या दोस्तों अगला है क्यों क्यों कहे जाते हैं कड़ी जब यह सजीव के अंदर होते हैं सजीवों के अंदर जब होते हैं तो यह उपापचय करते हैं ऊपर ऊपर बच्चे करते हैं लेकिन वह करते हैं लेकिन जब भी निर्जीव के अंदर होता है दोस्तों यह निर्जीव के अंदर न्यू जीवो के अंदर होते हैं यह जब किसी के अंदर नहीं होते हैं नदियों के अंदर होते हैं यह क्या करते दोस्तों यह जो है यह मृत हो जाते हैं मृत हो जाते हैं लेकिन जब इस जीवों के कान संपर्क में जैसे आते हैं जियो के संपर्क में आते ही सूचियों के संपर्क में आते ही संपर्क में क्या होता है दोस्तों इनकी कोशिका जो होती है वह बाबचे करने लगती है इनकी कोशिका जो होती है

कोशिका उपा बच्चे करने लगती है बच्चे बच्चे करने लगती है लगती है यही कारण है जो है इन्हें सजीव और निर्जीव के बीच की कड़ी कहा जाता है तो यहां पर हमारे पास जाए ग्राम में जो कुछ यहां पर है हमारे पास उसको हम समझते हैं देखिए बोला वायरस होता है इसकी संरचना ऐसी होती है चाय भी वायरस होता जो कि बहुत ही जो है इन फैक्ट्री वायरस होता है उसके बाद जो है रेबीज का वायरस देखिए जो है यहां पर कुछ जो है अच्छे वायरस हैं जो है तो उनको हम लोग देखते हैं एचआईवी एक ही बेटा इट इस का वायरस देखे ही बोला का वायरस इन्फ्लूएंजा का वायरस है 20 का वायरस यह सब जो है यह बहुत ही ज्यादा संक्रामक वायरस हैं यह जो है काफी अपना संक्रमण फैला चुके हैं यहां पर देखी वायरस के होते हैं दोस्तों यह सोच में संक्रामक एजेंट होते हैं यह सजीव और निर्जीव के बीच की कड़ी गया था क्यों कहा जाता है सजीव निर्जीव के बीच की कड़ी सभी सब्जियों के अंदर होते हैं तो सजीवों के जैसा व्यवहार करते हैं यह उपाय बताएं करते हैं जिंदा हो जाते हैं लेकिन बिरजू के अंदर क्या होता है दोस्तों की मृत हो जाते हैं फिर से जो है कोई

क्रिया नहीं करते हैं क्रिया प्रिया कोई नहीं करते लेकिन जैसे सब्जियों के संपर्क में आते थे सिंह की कोशिका उपापचय करने लगती है और यह फिर क्रिया और अब क्रिया जो है वह करने लगते हैं तो यह इसी वजह से इनको सजीव और निर्जीव के बीच की कड़ी घातक कोशिका सिद्धांत का अपवाद कहा जाता है कोशिका सिद्धांत का अपवाद है यह वायरस धन्यवाद दोस्तों

Click here to get PDF DOWNLOAD for all questions and answers of this chapter - NOOTAN HINDI Class 11 कोशिका : जीवन की इकाई

Click here to get PDF DOWNLOAD for all questions and answers of this Book - NOOTAN HINDI Class 11 BIOLOGY

उच्च पादपों में प्रकाश - सश्लेषण

उत्सजी उत्पाद एवं उनका निष्कासत

उत्सर्जी उत्पाद यवं उनका निष्कासन

एक कीट :कॉकरोच की आकरिकी तथा शारीरिकी

एन्जाइम्स

कवक या फंजाई जगत

कोशिका चक्र एवं कोशिका विभाजन

गमन एवं संचलन

जगत प्रोटिस्टा

जगत मोनेरा

जन्तु जगत : जन्तुओं के प्रमुख लक्षण एवं वर्गीकरण

जन्तुओं का संरचनात्मक संघटन : जन्तुओं में ऊतक

जीव जगत का वर्गीकरण

जैविक अणु

जड़ तने तथा पत्ती की शारीरिक (आन्तरिक संरचना तथा द्वितीयक वृद्धि)

तान्त्रिकीय नियंत्रण एवं समन्वयन

परिसंचरण तंत्र एवं देह तरल

पाचन एंव अवशोषण

पादप वृद्धि एवं परिवर्धन

पादप वृद्धि एवं परिवर्धन

पुष्पी पादपों की आकारिकी

पुष्पी पौधों की शारीरिकी एवं रूपान्तरण : वनस्पति ऊतक

पौधों में खनिज पोषण

पौधों में परिवहन

पौधों में श्वसन

फल तथा बीज की आकारिकी एवं कार्य

रासायनिक समन्वयन एवं नियंत्रण : अन्तः स्त्रावित तंत्र

वनस्पति जगत : पौधों के प्रमुख लक्षण एवं प्रमुख समूहों में वर्गीकरण

वर्गिकी एवं वर्गीकरण विज्ञान

वाष्पोत्सर्ज एवं बिंदु स्राव

श्वसन एवं गैसों का विनिमय

निम्न कथन सत्य है अथवा असत्य- <br>कुछ व्यवरोधों(constraints) के अंतर्गत किसी रैखिक फलन का न्यूनतम या अधिकतमीकरण करने की विधि को रैखिक प्रोगामान समस्या कहते हैं। रैखिक फलन को उद्देश्य फलन कहते हैं। रैखिक फलन में ऋणेत्तर चार निहित होते हैं।
आंकड़ों का अध्ययन क्यों आवशयक है ?
आंकड़ों का अध्ययन क्यों आवशयक है ?
सभी वाहनों को P.U.C क्यों दिया जाता है ?
सभी वाहनों को P.U.C क्यों दिया जाता है ?
निमीनलिखित क्या X का प्रायिकता बंटन है? <img src="https://d10lpgp6xz60nq.cloudfront.net/physics_images/SNJ_SPG_HIN_MAT_XII_P2_C16_E07_011_Q01.png" width="80%"> क्यों?

FAQs on कोशिका : जीवन की इकाई

WHAT IS A CELL?

Cell Theory Of Cells

Prokaryotic Cells

Cell Envelope And Its Modifications

Ribosomes And Inclusion Bodies

Eukaryotic Cells

Cell Membrane

Cell Wall

Endoplasmic Reticulum

Golgi Apparatus

Home
Online Class
Doubt?
Download App
Ask Doubt