Ask Free Unlimited Question
Join the 2 Crores+ Student community now!

एक आदमी पूर्व कि ओर 10 मीटर जाता है और फिर 30 मीटर उत्तर की ओर जाता है। बताइए वह प्रारम्भिक बिन्दु से कितनी दूरी पर है ?

Updated On: 15-1-2020

This browser does not support the video element.

Click here to get PDF DOWNLOAD for all questions and answers of this chapter - MANOHAR RAY Class 10 त्रिभुज

Click here to get PDF DOWNLOAD for all questions and answers of this chapter - MANOHAR RAY Class 10 MATHS

ज्योमितीय रचनाएँ

त्रिकोणमिति का परिचय

त्रिकोणमिति के कुछ अनुप्रयोग

दो चार वाले रैखिक समीकरण युग्म

द्विघात समीकरण

निर्देशांक ज्यामिति

पृष्ठीय क्षेत्रफल और आयतन

प्रायिकता

प्रोजेक्ट

बहुपद

वास्तविक संख्याएँ

वृत्त

वृत्तों से संबंधित क्षेत्रफल

समांतर श्रेणी

सांखियकी

अवकल समीकरण

अवकलन के अनुप्रयोग

आव्यूह

त्रि-विमीय ज्यामिति

प्रतिलोम त्रिकोणमितीय फलन

प्रायिकता

रैखिक प्रोग्रामन

सततता तथा अवकलनीयता

सदिश बीजगणित

समाकलन

समाकलनों के अनुप्रयोग

सम्बन्ध एवं फलन

सारणिक

चतुर्भुज

त्रिभुज

दो चरों वाले रैखिक समीकरण

निर्देशांक ज्यामिति

पृष्ठीय क्षेत्रफ़ल और आयतन

प्रायिकता

यूक्लिड की ज्यामिति का परिचय

रेखाए कोण

रेखाएँ और कोण

वृत्त

संख्या पद्धति

समान्तर चतुर्भुजों और त्रिभुजों के क्षेत्रफल

सांखियकी

हीरोन का सूत्र


Answer

Step by step solution by experts to help you in doubt clearance & scoring excellent marks in exams.

लिखित उत्तर

Open Answer in App

Answer

मीटर

एक अतिपरवलय बिन्दु `P(sqrt2,sqrt3)` से होकर जाता है, तथा उसकी नाभियाँ `(pm2,0)` पर है, तो अतिपरवलय के बिन्दु P पर खींची गई स्पर्श रेखा जिस बिन्दु से होकर जाती है, वह है
यदि एक वक्र बिंदु (1, -2) से होकर जाता है तथा इस पर किसी बिंदु (x, y) पर स्पर्श रेखा का ढाल (slope) `(x^(2) - 2y)/(x)` है, तो यह वक्र निम्न में से किस बिंदु से होकर जाता है ?
एक अतिपरवलय का केंद्र मूलबिंदु पर है तथा यह बिन्दु (4,2) से होकर जाता है और इसका अनुप्रस्थ (transverse) अक्ष X-अक्ष के अनुदिश है जिसकी लम्बाई 4 है तो इस अतिपरवलय की उत्केन्द्रता (eccentricity) है
एक वृत्त X-अक्ष पर एक जीवा काटता है जिसकी लम्बाई 4a है तथा यह वृत्त Y-अक्ष के एक बिन्दु से होकर जाता है जिसकी मूलबिंदु से दुरी 2b है , तो वृत्त के केन्द्र का बिन्दुपथ (locus) है
माना एक ऊर्ध्वाधर मीनार AB ऐसी है कि उसका सिरा A भूमि पर है। माना AB का मध्य-बिन्दु C है और भूमि पर स्थित बिन्दु P ऐसा है कि `AP=2AB` यदि `angleBPC=beta` है, तो `tanbeta` बराबर है
उस वृत्त का समीकरण जिसका केन्द्र `x-अक्ष पर है तथा त्रिज्या 4 है। और जो मूल बिन्दु से होकर जाता है, होगा
उस वृत्त का समीकरण जिसका केन्द्र `x-अक्ष पर है तथा त्रिज्या 4 है। और जो मूल बिन्दु से होकर जाता है, होगा
एक फैक्टरी में तीन मशीने A,B,C क्रमशः 25 % ,35 % और 40 % बल्ब बनाती है। बनाये गये बल्बों में क्रमशः 5% , 4 % और 2 %बल्ब फ्यूज निकलते है। <br> एक बल्ब कुल उत्पादित बल्बों में से निकाला जाता है और वह फ्यूज पाया जाता है। प्रायिकता ज्ञात कीजिए कि मशीने C द्वारा बनाया जाता है।
उस समतल का सदिश समीकरण जो बिन्दु `A(4,7,-4)` से जाता है तथा सदिश `(3,2,-1)`पर लम्ब है -
एक सिक्के को 10 बार उछाला जाता है ठीक 7 चित आने की प्रायिकता है
बिन्दु (-1,0) से होकर जाने वाले और y-अक्ष को (0,2) पर स्पर्श करने वाला वृत्त निम्न बिन्दु से भी होकर जाता है ।
एक व्यक्ति के एक कदम आगे चलने की प्रायिकता 0.4 तथा एक कदम पीछे हटने की प्रायिकता 0.6 है। प्रायिकता ज्ञात कीजिए कि `5` कदम चलने के पश्चात, यह व्यक्ति प्रारम्भिक बिन्दु से एक कदम दूर है।
एक व्यक्ति के एक कदम आगे चलने की प्रायिकता 0.4 तथा एक कदम पीछे हटने की प्रायिकता 0.6 है। इस बात की क्या प्रायिकता है की ग्यारह कदमो के पशचात वह व्यक्ति शुरुआती बिन्दु से एक कदम दूर है?
एक अतिपरवलय बिन्दुओं (3,2) तथा (-17,12) से गुजरता है और उसका केंद्र मूलबिन्दु पर है तथा अनुप्रस्थ अक्ष x- अक्ष है। अतिपरवलय की अनुप्रस्थ अक्ष की लम्बाई है।

FAQs on त्रिभुज

हमने पिछले वर्गों में पहले ही क्या सीखा है

एकरूपता से समानता कितनी अलग है।

समान बहुभुज

समान त्रिकोण और उनके गुण

मूल आनुपातिक प्रमेय प्रमेय या थाल्स प्रमेय - यदि एक रेखा त्रिकोण के एक तरफ समानांतर होती है जो दूसरे दोनों तरफ घुमाती है; तो यह दोनों पक्षों को एक ही अनुपात में विभाजित करता है।

अगर एक में ; एक लाइन डी || बीसी; ई में डी और एसी में एबी intersects; फिर

बेसिस आनुपातिक प्रमेय के विपरीत: यदि एक पंक्ति एक ही अनुपात में त्रिकोण के किसी भी दो पक्षों को विभाजित करती है; तो रेखा तीसरे पक्ष के समानांतर होना चाहिए।

त्रिभुज के कोण के आंतरिक कोण द्विभाजक कोण के विपरीत पक्षों के अनुपात में आंतरिक रूप से विपरीत पक्ष को विभाजित करते हैं

यदि त्रिकोण के एक चरम के माध्यम से एक रेखा दूसरे पक्षों के अनुपात में विपरीत पक्षों को विभाजित करती है; तो रेखा चरम पर कोण को विभाजित करती है।

एक त्रिभुज के कोण के बाहरी कोण द्विभाजक कोण के किनारों के अनुपात में विपरीत रूप से विपरीत पक्ष को विभाजित करता है।

Home
Online Class
Doubt?
Download App
Ask Doubt