Ask Free Unlimited Question
Join the 2 Crores+ Student community now!

एक दिष्ट धारा जनित्र के आर्मेचर में प्रेरित विद्युत वाहक बल होगा

Updated On: 17-04-2022

This browser does not support the video element.


लिखित उत्तर

Open Answer in App

A

DC

B

AC

C

उच्चावचन DC

D

AC तथा DC दोनों

Answer

B

Solution

दिष्ट धारा जनित्र के आर्मेचर में उत्पन्न विधुत वाहक बल AC होगा।

Answer

Step by step solution by experts to help you in doubt clearance & scoring excellent marks in exams.

Transcript

नमस्कार छात्रों हमारा प्रश्न 1 दिष्ट धारा जनित्र के आर्मी च में प्रेरित विद्युत वाहक बल होगा dc-ac कुचामन डीसी एसी तथा डीसी दोनों एक साथ वो तुझे के सबसे पहले हम समझते हैं कि हमारा छात्रों देखे जो जिस धारा जनित्र होता है वह मारा फैराडे के विद्युत चुंबकीय प्रेरण के सिद्धांत पर कार्य करता है अर्थात जब किसी चुंबकीय क्षेत्र में अगर हम कोई चुंबकीय क्षेत्र यहां पर बनाएं मानते हैं यह हमारा नोट खोल है यह हमारा उत्तरी ध्रुव हो गया तथा यह हमारा दक्षिणी ध्रुव हो गया यह हमारा दक्षिणी ध्रुव हो गया और इनके बीच में किसी कुंडली किसी आर्मी च को रखकर घुमाया जाए कि आर्मेचर किसी कुंडली को रखकर घुमाया जाए तो छात्रों हम जानते हैं कि यहां पर

यहां पर यह जो हमारा चुंबकीय क्षेत्र जा रहा है यह चुंबकीय क्षेत्र रेखाओं को काटते हुए या घूमेगा क्षेत्र में जिसके कारण इससे जो शब्द चुंबकीय फ्लक्स होगा उसमें लगातार परिवर्तन होगा जिसके कारण इसमें फैराडे के विद्युत चुंबकीय प्रेरण के नियम के अनुसार माइनस एंड डी फाइबर डीटीसी के कारण इसमें एक विद्युत वाहक बल प्रेरित होगा जो विद्युत वाहक बल हमारा लगातार परिवर्तित होता रहता है जिसकी दिशा जिसकी जिसकी दिशा लगातार परिवर्तित होती रहती है जिसके कारण इसको हम यहां पर स्प्लिट रिंग लगाकर के दिष्ट धारा में परिवर्तित करते हैं ठीक कुल मिलाकर यहां पर कुंडली में जो विद्युत वाहक बल प्रेरित होता है वह हमारा एसी होता है

कुछ ऐसी कुछ ऐसी विद्युत वाहक बल को हम लेट्रिन लगा करके क्या करते हैं डीपी में परिवर्तित करते हैं अर्थात दिष्ट धारा में परिवर्तित करते हैं ठीक उसी साहब से हमारा ऑप्शन हुआ ऑप्शन टू संयंत्र धन्यवाद

Click here to get PDF DOWNLOAD for all questions and answers of this Book - ARIHANT PUBLICATION JHARKHAND Class 12 PHYSICS

ऊष्मा-संचरण

ओम का नियम, विशिष्ट प्रतिरोध, प्रतिरोधों एवं सेलों का संयोजन

कार्य, सामर्थ्य एवं ऊर्जा

गति

गति के नियम

तापमिति एवं ऊष्मीय प्रसार

द्रवस्थैतिकी एवं आर्किमिडीज का सिद्धान्त

धारा का चुम्ब्कीय प्रभाव

पतले लेन्सों से अपवर्तन

पदार्थ का अणुगति सिद्धान्त

प्रकाश का अपवर्तन

प्रकाश की प्रकृति तथा परावर्तन

प्रकाशिक यन्त्र

बल आघूर्ण

मापन

मॉडल सॉल्वड पेपर 2016

मॉडल सॉल्वड पेपर 2017

विद्युत चुम्ब्कीय प्रेरण

विद्युत धरा के अनुप्रयोग

विद्युत् धारा, विभव एवं विद्युत् सेल

विशिष्ट ऊष्मा तथा गुप्त ऊष्मा

वैद्युत घटनाओँ का परमाण्वीय मॉडल

सदिश एवं अदिश राशियाँ

सरल लोलक, तरंग गति एवं ध्वनि

सॉल्वड पेपर 2018

सॉल्वड पेपर 2019

एक कण पर लगे समान परिमाण वाले तीन बल संतुलन में हैं, तो उनके बीच व कोण _____ होगा।
एक बल `2hat(i) + hat(j) + hat(k)` एक बिन्दु A जिसका स्थिति सदिश`2hat(i) - hat(j)` है , पर कार्य करता है। बल का मूलबिंदु के सापेक्ष आघूर्ण `…….` होगा।
`e^(-3x)` के विस्तार में तीसरा पद ............ होगा |
उचित संबंध जोड़िए-<br> `{:(,"स्तम्भ 'अ'",,"स्तम्भ 'ब'"),(1.,"डायनेमो की खोज",(a),"लेंज का नियम"),(2.,"भँवर धारा",(b),"एक कुण्डली"),(3.,"स्वप्रेरण",(c),"फैराडे"),(4.,"अन्योन्य प्रेरण",(d),"फोको धारा"),(5.,"प्रेरित धारा की दिशा",(e),"दो कुण्डली।"):}`
अभ्यास 7.3 व 7.4 में एक पूरे चक्र की अवधि में प्रत्येक परिपथ में कितने नेट शक्ति अवशोषित होती है ? अपने उत्तर का विवरण दीजिए | <br> 7.3 : एक 44mH का प्रेरित्र 220V, 50 Hz आपूर्ति से जोड़ा गया है , परिपथ में धारा के rms मान को ज्ञात कीजिये <br> 7.4 : एक 60`muF` का संधारित्र 110V, 60Hz , acआपूर्ति से जोड़ा गया है , परिपथ में धारा के rms मान को ज्ञात कीजिये
एक वाक्य में उत्तर दीजिए - <br> 9:25 का वर्गानुपात क्या होगा ?
एक इकाई त्रिज्या वाली अर्द्धगोलीय कटोरे में आधी गहराई तक पानी भरा है कटोरे में पानी का आयतन क्या होगा
एक श्रेणी जिसका n वा पद `(n)/(x)+y` है के r पदों का योगफल होगा
223422139
`E_("rms") = 100 वोल्ट का वि. वा. बल एक LCR श्रेणी परिपथ में लगाया गया है। यदि परिपथ में प्रेरणिक प्रतिघात, धारितीय प्रतिघात तथा प्रतिरोध के मान क्रमशः 4 ओम, 12 ओम तथा 6 ओम हों तो परिपथ के लिए निम्न का मान ज्ञात कीजिए- <br> वाट-हीन धारा का वर्ग माध्य मूल मान।
एक वाहन द्वारा `t` (सेकण्ड में) समय में कटी गई दुरी (मीटर में) समीकरण `s=3t^(3)+2t^(2)+t+1` द्वारा दी जाती है। `t=2` और `t=4` के बीच त्वरण में अन्तर होगा
एक वस्तु जिसका द्रव्यमान m है विराम से h ऊँचाई से गुरुत्वीय त्वरण g के अन्तर्गत गिरती है तथा यह रेत में गहराई d तक धंसती है। रेत में फँसने के दौरान औसत मन्दन होगा
निम्नलिखित कॉलम को सुमेलित कीजिये <br> `{:(,"कॉलम-I",," कॉलम-II"),((A)," एक समान आवेशित परावैधुत वलय",(p)," निकाय के बाहर नियत स्थिर विधुत क्षेत्र है"),((B)," एक सामान आवेशित परावैधुत वलय कोणीय वेग "omega"से घूर्णित है ",(q),"चुम्बकीय क्षेत्र की तीव्रता"),((C)," वलय में नियत धारा i",(r),"वैधुत क्षेत्र (प्रेरित)"),((D),i=i_(0)cosomegat,(s)," चुम्बकीय द्वि - ध्रुव आघूर्ण "):}`
एक बिन्दु पर क्रियाशील दो बल P और Q का अधिकतम परिणामी बल ........ होता है।
भिन्न `2/(x^(2)-1)` को आंशिक भिन्नों के रूप में लिखने पर सही उत्तर होगा:
`(1 - 2x)^(-1)` के प्रसार में 5 वाँ पद का मान होगा |

FAQs on विद्युत चुम्ब्कीय प्रेरण

WHAT IS ELECTROMAGNETIC FORCE ?

Magnetic Flux

Gaus Law Of Magnetism

FARADAY'S LAW

LENZ'S LAW

Motional Electromotive Force

Motional Emf Induced In Rotating Bar

Self Inductance

POTENTIAL DIFFERENCE ACROSS AN INDUCTOR

KIRCHOFF'S LAW FOR INDUCTOR

Home
Online Class
Doubt?
Download App
Ask Doubt