Ask Free Unlimited Question
Join the 2 Crores+ Student community now!

किसी निश्चित ताप पर साम्यावस्था पर HI मात्रा 50% ही वियोजित होता है तो अभिक्रिया `2HI(g) harr H_(2)(g) + I_(2)(g)` के लिए साम्य स्थिरांक ज्ञात करे :-

Updated On: 28-3-2021

This browser does not support the video element.


Answer

Step by step solution by experts to help you in doubt clearance & scoring excellent marks in exams.

लिखित उत्तर

Open Answer in App

A

0.25

B

C

D

0.5

Answer

A

अभिक्रिया `H_2(g) + I_2(g) hArr 2HI (g)` के लिए, साम्य स्थिरांक (K) होगा
अभिक्रिया, `H_(2) (g) + I_(2)(g) harr 2HI(g)`, के लिए अभिक्रिया दर प्रदर्शित की जाती है
अभिक्रिया `H_(2)(g)+I_(2)hArr 2HI(g)` के लिए साम्य स्थिराकन `` परिवर्तित होता है
यदि अभिक्रिया, `H_(2)(g) + I_(2)(g) ltimplies 2HI(g)` के लिए `K_( c)` का मान 50 है तो अभिक्रिया, `2HI(g) ltimplies H_(2)(g) + I_(2)(g)` के लिए `K_( c)` का मान होगा:
निम्नलिखित साम्य डाब में वृद्धि करने पर किस प्रकार प्रभावित होंगे ? <br> (i) `2NI_(g)+O_(2)(g)hArr 2NO_(2)(g)` <br> (b) `N_(2)O_(4)(g)hArr 2NO_(2)(g)` <br> `(iii) 2HI(g)hArr H_(2)(g)+I_(2)(g)` <br> (iii) `2HI(g)hArr H_(2)(g)+I_(2)(g)`
`DeltaG^(@) HI(g) -= + 1.7` कि. जूल हो तो 25°C ताप पर `2HI(g)-> H_(2)(g) + I_(2)(g)` के लिये साम्य स्थिरांक का मान होगा
अभिक्रया `2HI(g)hArr H_(2)(g)+I_(2)(g)` के लिए साम्य स्थिरांक कमरे के ताप पर `2.38` तथा `698K` पर `1.84xx10^(-2)` है। अतः कमरे के तप पर HI के स्थायी होने का कारन यह है की-
`H_(2)(g) + I_(2)(g) rarr 2HI(g) , DeltaH= 12.40` kcal <br> इस समीकरण के अनुसार, `HI` की सम्भवन ऊष्मा है -
किसी बिन्दु पर संतत फलन होता है -
अभिक्रिया `H_(2)(g) + I_(2)(g) harr 2HI(g)` के लिए, साम्यावथा स्थिरांक `K_(P)` किसके साथ परिवर्तित होगा :-
अभिक्रिया `H_(2)(g) + I_(2)(g) to 2HI (g)` के सभी अभिकारक तथा उत्पादों के रूप में अभिक्रिया की औसत दर को लिखिए।
इस प्रश्न के प्रत्येक खण्ड में चार विकल्प दिए गए हैं, सही विकल्प चुनकर उसे अपनी उत्तर-पुस्तिका में लिखिए : <br> (ख) यदि अभिक्रिया.`H_(2)(g) + I_(2)(g) <implies 2HI(g)` के लिए `K_( c)` का मान 50 है, तो अभिक्रिया `2HI(g) <implies H_(2)(g) + I_(2)(g)` के लिए `K_( c)` का मान होगा:
यदि अभिक्रिया `H_(2)(g)+I_(2)(g)hArr2HI(g)` के लिए K का मान 48 ह तब अभिक्रिया `(1)/(2)H_(2)(g)+(1)/(2)I_(2)hArr HI_(g)` के लिए K का मान क्या होगा ?
एक फलन g जो प्रत्येक वास्तविक संख्या `x gt 0` के लिए परिभाषित है तथा `g(1)=1, g'(x^(2))=x^(3)` को सभी `x gt 0` के लिए सन्तुष्ट करता है, तो g (4) का मान है
`2HI(g) ltimplies H_(2)(g) + I_(2)(g), 300K` पर अभिक्रिया का साम्य सीथरांक 6.4 है| `H_(2)` तथा `I_(2)` प्रत्येक के `0.25` मोल, तंत्र में मिलाने पर, साम्य सीथरांक होगा:
Home
Online Class
Doubt?
Download App
Ask Doubt