Ask Free Unlimited Question
Join the 2 Crores+ Student community now!

कथन-1 : `sum_(0lei)sum_(ltjlen)((i)/(.^(n)C_(i))+(j)/(.^(n)C_(j))),(n^(2))/(2)` a के बराबर है, जहाँ `a=sum_(r=0)^(n)(1)/(.^(n)C_(r))` कथन-2 : `sum_(r=0)^(n)(r)/(.^(n)C_(r))=sum_(r=0)^(n)(n-r)/(.^(n)C_(r))`

Click here to get PDF DOWNLOAD for all questions and answers of this chapter - ERRORLESS HINDI Class 12 द्विपद प्रमेय तथा गणितीय आगमन

Click here to get PDF DOWNLOAD for all questions and answers of this chapter - ERRORLESS HINDI Class 12 MATHS

JEE (ADVANCED) 2019 PAPER - 2

JEE (ADVANCED) 2019 PAPER -1

JEE (MAIN) PAPER (10 JUNUARY :SHIFT-1)

PAPER (10 APRIL : SHIFT-1)

PAPER (10 JANUARY : SHIFT -2)

PAPER (11 JANUARY : Shift -2)

PAPER (11 JANUARY :SHIFT I )

PAPER (12 JANUARY :SHIFT-2)

PAPER (12 JANUARY: SHIFT-1)

PAPER (8 APRIL : SHIFT-1)

PAPER (8 APRIL SHIFT -2)

PAPER (9 APRIL : SHIFT - 2)

PAPER (9 JANUARY : SHIFT-2)

PAPER(12 APRIL : SHIFT-2)

अनिश्चित समाकलन

अवकलन तथा अवकलज के अनुप्रयोग

केन्द्रीय प्रवृत्ति के माप

क्रमचय एवं संचय

गणितीय तर्कशास्त्र

त्रिकोणमितीय समीकरण एवं असमिकाएँ त्रिभुजों के गुण उँचाई एवं दुरी

त्रिकोणमितीय अनुपात, फलन एवं सर्वसमिकाये

त्रिविमीय निर्देशांक ज्यामिति

निश्चित समाकलन एवं वक्रों से घिरा क्षेत्रफल

प्रायिकता

फलन, सीमा, सांतत्य तथा अवकलनीयता

लघुगणक और आंशिक भिन्नें

वृत्त तथा वृत्तों का निकाय

श्रेणियाँ

सदिश बीजगणित

समकोणीय कार्तीय निर्देशांक

समुच्चय सिद्धान्त तथा सम्बन्ध

सम्मिश्र संख्यायें

सरल रेखा

सारणिक तथा आव्यूह

PAPER (12 APRIL : SHIFT-1)

PAPER(10 APRIL : SHIFT-2)

अवकल समीकरण

वर्ग समीकरण एवं असमिकायें

शांकव परिच्छेद


Answer

Step by step solution by experts to help you in doubt clearance & scoring excellent marks in exams.

लिखित उत्तर

Open Answer in App

A

कथन-1 सही है, कथन-2 सही है, कथन-1 के लिए, कथन-2 का स्पष्टीकरण सही है

B

कथन-1 सही है, कथन-2 सही है, कथन-1 के लिए, कथन-2 का स्पष्टीकरण सही नहीं है

C

कथन-1 सही है, कथन-2 गलत है

D

कथन-1 गलत है, कथन-2 सही है

Answer

A

यदि `s_(n) = sum_(r=0)^(n)1/(.^(n)C_(r))" तथा तो " t_(n) = sum_(r =0)^(n) r/(.^(n)C_(r))," तो " t_(n)/s_(n) =`....है :
यदि `S_(n)=sum_(r=0)^(n) (1)/(""^(n)C_(r))" और "t_(n)=sum_(r=0)^(n) (r)/(""^(n)C_(r))` तब t_(n)/s_(n) =
`sum_(r=0)^m .^(n+r)C_n`=
कथन-1 : `sum_(r=0)^(n)(r+1).^(n)C_(r)=(n+2)2^(n-1)` <br> कथन-2 : `sum_(r=0)^(n)(r+1).^(n)C_(r)x^(r)=(1+x)^(n)+nx(1+x)^(n-1)`
यदि `(1+x)^(n)=sum_(r=0)^(n)C_(r )x^(r )` तो `(1+(C_(1))/(C_(0)))(1+(C_(2))/(C_(1)))...(1+(C_(n))/(C_(n-1)))=`
माना कि धनात्मक पूर्णांक इस प्रकार है कि `(1+x)^(n)=C_(0)+C_(1)x+C_(2)x^(2)+...+C_(n)x_(n)` तब <br> `sum_(r=0)^(n)sum_(s=0)^(n)sum_(t=0)^(n)sum_(u=0)^(n)(1)` का मान है
`sum_(r=0)^(r-1) (.^n C_r)/(.^n C_r + .^n C_(r+1))` का मान है
यदि `x+y=1` तब `sum_(r=0)^(n)r^(2).^(n)C_(r)x^(r)y^(n-r)` बराबर है
माना कि धनात्मक पूर्णांक इस प्रकार है कि `(1+x)^(n)=C_(0)+C_(1)x+C_(2)x^(2)+...+C_(n)x_(n)` तब <br> `sum_(r=0)^(n)sum_(s=0)^(n)(C_(r)+C_(s))` का मान है
साबित कीजिए `sum_(r=0)^(n)3^(r)""^(n)C_(r)=4^(n)`
सिद्ध कीजिए कि `sum_(r=0)^(n).^(n)C_(r)*4^(r)=5^(n)`
माना कि धनात्मक पूर्णांक इस प्रकार है कि `(1+x)^(n)=C_(0)+C_(1)x+C_(2)x^(2)+...+C_(n)x_(n)` तब <br> `sum_(r=0)^(s)sum_(s=1)^(n).^(n)C_(s)*.^(s)C_(r)` का मान ( जब `rles` ) है
धुर्वीय रूप में किसी सम्मिश्र संख्या को एक आयलर के रूप में एक व्यंजक `costheta+isintheta=e^(itheta)` में प्रदर्शित की जाती हैं। सम्मिश्र संख्या का यह रूप श्रेणीयों `sum_(r=0)^(n).^(n)C_(r)(costheta+isintheta)^(r )` के योग ज्ञात करने में उपयोगी हैं। <br> `sum_(r=0)^(n).^(n)C_(r)(cos r theta + i sin r theta)=sum_(r=0)^(n).^(n)C_(r)e^(irtheta)` <br> `=sum_(r=0)^(n).^(n)C_(r)(e^(i theta))^(r)` <br> `=(1+e^(i theta))^(n)` <br> एवं हम जानते हैं कि द्विपद श्रेणीयों के योग में परिवर्तन नहीं होता हैं यदि r को n-r द्वारा बदला जाता हैं। इन तथ्यों के आधार पर निम्नलिखित प्रश्नो के उत्तर दो। <br> यदि `f(x)=(sum_(r=0)^(50).^(50)C_(r)sin2rx)/(sum_(r=0)^(50).^(50)C_(r)cos2rx)` तब `f(pi//8)` का मान के बराबर है
152620943
`|(.^(n-1)C_(r-1),.^(n-1)C_(r),.^(n-1)C_(r+1)),(.^(n-1)C_(r),.^(n-1)C_(r+1),.^(n-1)C_(r+2)),(.^(n)C_(r),.^(n)C_(r+1),.^(n)C_(r+2))|=`
धुर्वीय रूप में किसी सम्मिश्र संख्या को एक आयलर के रूप में एक व्यंजक `costheta+isintheta=e^(itheta)` में प्रदर्शित की जाती हैं। सम्मिश्र संख्या का यह रूप श्रेणीयों `sum_(r=0)^(n).^(n)C_(r)(costheta+isintheta)^(r )` के योग ज्ञात करने में उपयोगी हैं। <br> `sum_(r=0)^(n).^(n)C_(r)(cos r theta + i sin r theta)=sum_(r=0)^(n).^(n)C_(r)e^(irtheta)` <br> `=sum_(r=0)^(n).^(n)C_(r)(e^(i theta))^(r)` <br> `=(1+e^(i theta))^(n)` <br> एवं हम जानते हैं कि द्विपद श्रेणीयों के योग में परिवर्तन नहीं होता हैं यदि r को n-r द्वारा बदला जाता हैं। इन तथ्यों के आधार पर निम्नलिखित प्रश्नो के उत्तर दो। <br> त्रिभुज ABC में, `sum_(r=0)^(50).^(50)C_(r)a^(r)b^(n-r)cos(r B-(50-r)A)` का मान बराबर है, ( जहाँ a,b,c त्रिभुज की भुजायें क्रमश: कोणों A, B, C, के विपरीत है और s अर्द्धपरिमाप है )

FAQs on द्विपद प्रमेय तथा गणितीय आगमन

समारोह का अर्थ

मापांक; Signum; सबसे बड़ा पूर्णांक और fractional भाग समारोह

समारोह का प्रतिनिधित्व

शारीरिक व्याख्या

डोमेन कोडोमेन और फ़ंक्शन की रेंज

कार्य का ग्राफ: लंबवत रेखा परीक्षण

पहचान समारोह

ग्राफ के साथ लगातार समारोह की व्याख्या करें

मॉड्यूलस समारोह और गुण

सबसे बड़ा पूर्णांक समारोह और गुण

Home
Online Class
Doubt?
Download App
Ask Doubt