Ask Free Unlimited Question
Join the 2 Crores+ Student community now!

अभिक्रया `2HI(g)hArr H_(2)(g)+I_(2)(g)` के लिए साम्य स्थिरांक कमरे के ताप पर `2.38` तथा `698K` पर `1.84xx10^(-2)` है। अतः कमरे के तप पर HI के स्थायी होने का कारन यह है की-

Updated On: 17-04-2022

This browser does not support the video element.


लिखित उत्तर

Open Answer in App

A

यह अत्याधिक मन्दवेग से अपघटित होता है जिसके कारण साम्य शीघ्रता से स्थापति नन्ही होता

B

आबन्ध H-I

का संहयोजनक लक्षण अत्याधिक है

C

कमरे के ताप पर वियोजन अभिक्रिया की मान मुक्त ऊर्जा

है

D

यह एक अन-उत्प्रेरित अभिक्रिया है

Answer

C

Answer

Step by step solution by experts to help you in doubt clearance & scoring excellent marks in exams.

Transcript

दिया गया है कि अभिक्रिया 2622 के लिए सामराऊ कमरे के ताप पर 2.38 तथा 698 कमरे के ताप पर होने का कारण है कि हमारा रूम टेंपरेचर यानी कि हमारा रूम टेंपरेचर जाने कि हमें 298 केल्विन पर कमरे के ताप पर मैं दूसरा 10698 केल्विन टेंपरेचर बढ़ने पर क्या हुआ हमारे के की बैंक जो है घट गई

तापमान में वृद्धि के साथ के की वैल्यू घट रही है दो प्लस दो बटन वाला और क्या हो रहा है अभी क्या हो रही है सोने जा रही है ठीक है क्योंकि तापमान में मराठी क्यों फट रही है ठीक है टेंपरेचर बढ़ रहा है कट रही है या पश्चिम दिशा में जा रही है ठीक है तो हमारा अभिक्रिया है वह कहां पर फर्स्ट दिशा में जा रही है तो अगर हम देखे हैं

दूसरे शब्दों में बगैर हम देखे तो कमरे के ताप पर एसआई का पृथक्करण में तो कमरे के कमरे की तापमान पर ऊंचाई है एच आई का पृथक्करण पृथक्करण मैं ऐसा जो है 6262 और 282 से कम खाइए और अगर डिग्री समझे तो देखिए क्या हो रहा है यहां पर लेकिन अगर हमें क्या करना पड़ रहा है यहां पर देनी पड़ रही है यहां पर

2 प्लस 2 प्लस हीट और तब मारा क्योंकि यहां पर क्या हो रहा है तापमान पर अभिक्रिया जो है पश्चिम दिशा में जा रही है और यहां पर जो है वही अगर 698 की बात करें तो यहां पर घट रहा है तो क्या हो जाएगा क्या हो रहा है यहां पर तो अगर हम आपको देखे आप हमारा दिया है कि या विद्या मंदिर व्यक्ति घटित होता है जिसके कारण काम में शीघ्रता से स्थापित नहीं होता है और दूसरा ऑप्शन देखते हैं

और एच आई का संरक्षण अत्यधिक है कमरे के ताप पर योजन अभिक्रिया की मांग की मानक मानक पूजा है मुक्त ऊर्जा जो है एक उत्प्रेरक अभिक्रिया है जो कि बिल्कुल भी नहीं दिखे इसमें होने का कारण कह रहा है तो वह घटित होगा गलत है हमारा वाला होगा ठीक है हमारा होगा क्योंकि क्या हो रहा है अभिक्रिया जो है उसकी तापमान पर दिशा में जा रही है और कमरे के ताप पर यहां पर आगे बढ़ रही है कमरे के ताप पर क्या हो रहा है यहां पर हमसे हम ने क्या बताया

कि यहां पर हमें ही तो है प्रोवाइड करा रहे हैं देनी पड़ रही है ठीक है यहां पर जो है मानक मुक्त जो है यह तुम्हारा क्या हो जाएगा यहां पर हमारा कमरे के ताप पर ताप पर रियो जन अभिक्रिया वियोजन वियोजन अभिक्रिया अभिक्रिया की ऊर्जा जो है क्या है जो 1.06 दो किलोकैलोरी है

Click here to get PDF DOWNLOAD for all questions and answers of this chapter - NOOTAN HINDI Class 11 रासायनिक साम्य

Click here to get PDF DOWNLOAD for all questions and answers of this Book - NOOTAN HINDI Class 11 CHEMISTRY
अभिक्रया `2HI(g)hArr H_(2)(g)+I_(2)(g)` के लिए साम्य स्थिरांक कमरे के ताप पर `2.38` तथा `698K` पर `1.84xx10^(-2)` है। अतः कमरे के तप पर HI के स्थायी होने का कारन यह है की-
जब मूलबिंदु `(-3,2)` पर है तब इस मूलबिंदु के सापेक्ष किसी बिंदु P के निर्देशांक `(-3,4)` है । बिंदु `(0,0)` पर मूलबिंदु होने पर इसके निर्देशांक है । बिंदु `(0,0)` पर मूलबिंदु होने पर इसके निर्देशांक ज्ञात कीजिए
`CH_3COOC_2H_5`, C_2H_5MgBr` की अधिकता के साथ जलअपघटन पर देता है
एक फलन g जो प्रत्येक वास्तविक संख्या `x gt 0` के लिए परिभाषित है तथा `g(1)=1, g'(x^(2))=x^(3)` को सभी `x gt 0` के लिए सन्तुष्ट करता है, तो g (4) का मान है
अतिपरवलय `x^(2)/(cos^(2)alpha)-(y^(2))/(sin^(2)alpha) =1 ` के लिए`alpha` के परिवत्त होने पर निम्न में कौन अचर रहता है -
k के किस मान के लिए रेखाएँ `y=(2+sqrt(3))x+4` तथा `y=kx+6` एक दूसरे से `60^(@)` के कोण पर झुकी है ?
अभिक्रिया <br> इथेनॉल `overset(PCl_(5))(to) X overset(" एल्को " KOH)(to) Y overset(H_(2) SO_(4) , "कमरे के ताप पर")(underset(H_(2) O , Delta)(to) Z` में उत्पाद Z है
दर्शाइए की बिंदु `x=(2at)/(1+t^(2))` तथा ` y= (a(1-t^(2)))/(1+t^(2))` जहाँ a स्थिर राशि है t प्राचल है तथा `-1 le t le 1 , t ` के प्रत्येक मान के लिए वृत्त पर स्थित है ।
वक्र `sqrtx+sqrty=3` की (4,1) पर स्पर्श रेखा (tangent) के अक्षो (axes) पर अन्तः खण्ड (intercepts) का योग है
किसी समबाहु त्रिभुज के आधार का समीकरण `x+y=2` है तथा सामने के शीर्ष के निर्देशांक `(2,1)` है , त्रिभुज की शेष भुजाओ के समीकरण ज्ञात कीजिए ।
वृत्त `x^2 + y^2 =169 ` के बिन्दुओं (5, 12) तथा (12,-5) पर खींची गई स्पर्श रेखाओं के बीच का कोण है
परवलय `y^(2) = 4ax` के बिन्दु `((a)/(4), a)` पर अभिलम्ब का समीकरण है
यदि अतिपरवलय `(x^2)/(4)-(y^2)/(9)=1` के बिन्दु `(2sec phi,3tanphi)` पर स्पर्शी `3x-y+4=0` के समान्तर है , तब `phi` का मान है।
परवलय `y^(2)=4ax` की नाभि तथा उस पर स्थित चर को मिलाने वाले रेखाखण्ड के मध्य - बिंदु का पथ एक परवलय है जिसकी नियता है :
माना PQ और RS,r त्रिज्या के वृत्त के व्यास के सिरों पर खींची गई स्पर्शियाँ है। यदि PS और RQ परिधि पर स्थिति बिन्दु X पर प्रतिच्छेद करते है तो 2r बराबर है-

FAQs on रासायनिक साम्य

EQUILIBRIUM STATE, EQUILIBRIUM MIXTURE, DYNAMIC EQUILIBRIUM, CHEMICAL EQUILIBRIUM AND IONIC EQUILIBRIUM

SOLID-LIQUID EQUILIBRIUM, LIQUID-VAPOUR EQUILIBRIUM AND SOLID-VAPOUR EQUILIBRIUM

Equilibrium Involving Dissolution Of Solid Or Gases In Liquids And General Characteristics

Concept Of Chemical Equilibrium

Law Of Mass Action And Equilibrium Constant

Stoichiometric Representation Of Equilibrium Constant

EQUILIBRIUM CONSTANT IN GASEOUS SYSTEM, UNITS AND CHARACTERISTICS OF EQUILIBRIUM

Types Of Chemical Equilibrium And Effect Of Temperature On The Equilibrium Constant

Predicting The Extent Of A Reaction

Predicting The Direction Of A Reaction

Home
Online Class
Doubt?
Download App
Ask Doubt